जब दो महिला अफसर भिड़ पड़ी

भोपाल

शाजापुर एएसपी ज्योति ठाकुर से हुए विवाद के बाद अब आईएएस ऋ जु बाफना नागदा एसडीएम नहीं रह गई हैं। उन्हें बड़वानी पदस्थ कर दिया गया है। दरअसल दोनों महिला अफसरों ने एक दूसरे के खिलाफ अपने वरिष्ठ अधिकारियों से शिकवा-शिकायत की थी।
नागदा में हुए ताज़ा विवाद को लिया जाये यहां सर्किट हाउस में रुम बुकिंग को लेकर नागदा एसडीएम के पद पर काम कर रही ऋ जु बाफना और शाजापुर एएसपी ज्योति ठाकुर के बीच जमकर विवाद हुआ था । दोनों महिला अफसरों ने एक दूसरे की शिकायत वरिष्ठ अधिकारियों से की । दोनों महिला अफसरों का एक- दूसरे पर आरोप था कि उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया है। मामला वरिष्ठ अधिकारियों के संज्ञान में है।

क्या कहना है दोनों का

एएसपी ठाकुर का कहना है कि उन्होंने मोबाइल पर सिर्फ इतना कहा था कि एसडीएम से बात करना है, इतने में ही वे भड़क गई। एसडीएम बाफना का कहना है कि एएसपी को बात करने का लिहाज नहीं है, वे तू कहकर बात कर रही थी। एसडीएम ने इसकी शिकायत शाजापुर एसपी से की है। इधर, एएसपी ने उज्जैन कलेक्टर से एसडीएम की शिकायत की है।

बता दें की शाजापुर एएसपी ज्योति ठाकुर किसी विवाह समारोह में भाग लेने के लिए नागदा आई थी। यहां उन्होंने कुछ घंटे के लिए सर्किट हाउस में रूम बुक करने के लिए एसडीएम बाफना को फोन लगाया। फोन पर हुई चर्चा के दौरान ही दोनों में तकरार हो गई। हालांकि इसके बाद उन्हें रूम तो नहीं मिला लेकिन उन्होंने कलेक्टर संकेत भोंडवे से मौखिक शिकायत की है।

एसडीएम, नागदा ऋ जु बाफना, का कहना है कि-सर्किट हाउस में कमरा बुक करने की बात को लेकर एएसपी ने बदतमीजी से बात की। इस तरह बात नहीं करना चाहिए। कलेक्टर को वस्तुस्थिति से अवगत करा दिया है।

इधर एएसपी, शाजापुर ज्योति ठाकुर के मुताबिक -मुझे नहीं मालूम था कि नागदा में महिला एसडीएम हैं। यह भी नहीं पता था कि वे आईएएस हैं। मैंने सहज भाव से फोन लगाया लेकिन उनका वे ऑफ टॉकिंग गलत था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *