अंतागढ़ टेपकांड : रमन के बाद अब अमन भी फंसे

नेशन अलर्ट.
97706-56789
रायपुर.

अंतागढ़ विधानसभा उपचुनाव को लेकर खड़ा हुआ विवाद आए दिन करवटें ले रहा है. विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेसी प्रत्याशी रहे मंतूराम पवार ने आज दो पूर्व मुख्यमंत्रियों व एक मंत्री सहित सुपरसीएम के नाम से चर्चित रहे अमन सिंह पर भी आरोप मढ़ दिए.

उल्लेखनीय है कि अंतागढ़ विधानसभा उपचुनाव के समय प्रत्याशी रहे मंतूराम पवार ने अचानक नाम वापस ले लिया था. तब कांग्रेस के पास इतना समय भी नहीं था कि वह किसी अन्य प्रत्याशी को मैदान में उतार सकती.

थक हारकर कांग्रेस ने तब निर्दलीय प्रत्याशी का समर्थन किया था. बाद में मंतूराम पवार भाजपा में शामिल हो गए थे. कुछ समय के बाद एक टेप उजागर हुआ था जिसे अंतागढ़ टेपकांड के नाम से चर्चा मिली थी.

अब जबकि दंतेवाड़ा विधानसभा उपचुनाव होने जा रहा है तो मंतूराम पवार, भाजपा सहित कभी कांग्रेसी रहे पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, पूर्व विधायक अमित जोगी पर लगातार आरोप लगा रहे हैं.

एक करोड़ का वायदा था दिए पचास हजार

मंतूराम पवार ने आज पत्रकार वार्ता ली. इस वार्ता में उनके साथ देवनाथ, महादेव उसेंडी, समंदर नेताम, भोजराज नाग, भीमसिंह उसेंडी, चुरेंद्र कुमार का भी नाम सुनाई देते रहा.

पत्रकारों से चर्चा करते हुए मंतूराम पवार ने कहा कि इन सभी प्रत्याशियों को मेरे सहित रमन सरकार के दबाव में नामांकन वापस लेना पड़ा था. उस समय सभी छ: प्रत्याशियों को एक एक करोड़ रूपए देने का वायदा किया गया था जबकि किसी को पचास हजार मिले तो किसी को चालीस हजार.

उन्होंने बताया कि इन सभी छ: प्रत्याशियों ने मजिस्ट्रेट के समक्ष धारा 164 के तहत अपने बयान दर्ज करा दिए हैं. धमतरी थाने में शिकायत भी की गई है. शिकायत में रमन सिंह, अजीत जोगी, राजेश मूणत, पुनीत गुप्ता, ओपी गुप्ता सहित अमन सिंह का भी नाम उल्लेखित है.

अजीत-अमित ने षड्यंत्र रचा था

उनका आरोप था कि अंतागढ़ चुनाव से नाम वापस लेने के लिए उन पर दबाव डाला गया. एनकाउंटर तक की धमकी दी गई. कहा गया कि कभी भी दुर्घटना का शिकार हो जाओगे.

छ: प्रत्याशियों के साथ पहुंचे मंतूराम पवार ने पत्रकारों से कहा कि अंतागढ़ कांड में अजीत जोगी-अमित जोगी ने रमन सिंह के साथ मिलकर षड्यंत्र रचा था. अजीत जोगी के ही चलते प्रदेश में तीन मर्तबा भाजपा की सरकार बनी थी.

रमन सिंह पर आरोप लगाते हुए मंतूराम पवार ने कहा कि उन्हें टिकट देने का आश्वासन दिया गया था. लेकिन न तो विधानसभा में टिकट मिली और न ही लोकसभा में टिकट मिली. अंतागढ़ कांड में मैं मोहरा बनाया गया. भाजपा ने मेरा अपमान किया है.

स्वयं को आज भी दबाव में बताते हुए मंतूराम पवार ने अजीत जोगी और रमन सिंह पर खुद को कांड में फंसा देने का आरोप लगाया. मंतूराम ने दंतेवाड़ा की जनता से अपील की है कि वह भाजपा को परास्त कर रमन सिंह द्वारा आदिवासियों को दिए गए धोखे का बदला ले.

इस दौरान जब पत्रकारों ने यह जानना चाहा कि किन लोगों ने उन पर नाम वापस लेने दबाव बनाया था तो तकरीबन सभी ने रमन सिंह के लोगों ने कहा. इस दौरान एक व्यक्ति ने ओपी गुप्ता द्वारा एक करोड़ रूपए देने की बात कही.

बहरहाल , पूरे मामले में चौंकाने वाला नाम भले ही अमन सिंह का हो लेकिन इस पर आश्चर्य नहीं जताया जा रहा है. अंतागढ़ के अलावा बहुत से मामलों में उनका नाम सुनाई देते रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *